आधार के हेल्पलाइन नंबर में हेराफेरी, टोल फ्री नंबर 1800-300-1947 वैध नहीं : UIDAI

yashwant
By yashwant August 3, 2018 13:17

आधार के हेल्पलाइन नंबर में हेराफेरी, टोल फ्री नंबर 1800-300-1947 वैध नहीं : UIDAI

नई दिल्‍ली: क्या कुछ फोन ऑपरेटर और कंपनियां जान-बूझ कर आधार के हेल्पलाइन नंबर में गड़बड़ी कर रहे हैं? आपके एंड्रॉएड फोन में आधार के लिए फीड किया गया टोल-फ्री नंबर फर्जी है. UIDAI ने शुक्रवार को कहा कि एंड्राएड फोन के कॉन्‍टेक्‍ट लिस्‍ट में पहले से उपलब्‍ध नंबर 1800-300-1947 नंबर गलत है. UIDAI ने बयान जारी कर कहा है कि उसने किसी भी फोन ऑपरेटर या निर्माता को ऐसी इजाज़त नहीं दी है. UIDAI ने ये भी बताया है कि ये कंपनियां उसका पुराना टोल फ्री नंबर 1800-300-1947 चला रही हैं जो वैध नहीं है.

आधार का अपना वैध नंबर 1947 है जो दो साल से चालू है. UIDAI ने ये बयान तब जारी किया जब ख़बर आई कि देश भर में कई यूज़र्स को ये नंबर अपनी कंटैक्ट लिस्ट में मिले. आधार ने एक बयान जारी कर कहा है कि आधार का पुराना और बेकार हो चुका टोल फ़्री नंबर 1800-300-1947 एंड्रॉयड फोन की कंटैक्ट लिस्ट में दिख रहा है.

आधार ने किसी भी कंपनी को ऐसी सुविधा मुहैया कराने को नहीं कहा है. ये वैध नंबर नहीं है. कुछ मीडिया रिपोर्ट में इस नंबर के गलत होने की जानकारी आने के बाद UIDAI की ओर से यह सफाई दी गई है. UIDAI ने कहा कि आधार का अपना नंबर 1947 दो साल से चल रहा है.

अगर आपको किसी सर्विस की सेवा के लिए बार-बार आधार कार्ड या आधार नंबर की पहचान कराने की जरूरत होती है या फिर आधार के डेटा की गोपनीयता का खतरा बना रहता है तो अब न सिर्फ इस झंझट से छुटकारा मिलने वाला है, बल्कि आपका डाटा और भी ज्यादा सुरक्षित होने वाला है. आधार कार्ड की सुरक्षा को लेकर उठ रहे सवालों के चलते अब इसमें कुछ बदलाव किए जा रहे हैं. सरकार के आधार कार्यक्रम को चलाने वाली यूआडीएआई यानी भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने कहा कि अब वह वर्चुअल आधार आईडी लाने वाली है, जिसमें 16 अंकों के टेंपररी नंबर होंगे, जिसे लोग जब चाहे अपने आधार के बदले शेयर कर सकते हैं. उम्मीद की जा रही है कि यूआडीएआई की यह अवधारणा पर मार्च के अंत तक सफल हो जाएगी.

yashwant
By yashwant August 3, 2018 13:17
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*