डेविड वॉर्नर ने सचिन-गांगुली के बाद दर्ज कराया नाम तूफानी शतक से तोड़ा पॉन्टिंग, हेडन का रिकॉर्ड,

TNM Editor
By TNM Editor December 6, 2016 14:27

डेविड वॉर्नर ने सचिन-गांगुली के बाद दर्ज कराया नाम तूफानी शतक से तोड़ा पॉन्टिंग, हेडन का रिकॉर्ड,

भारत: दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ हार को भुलाते हुए ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम ने न्यूजीलैंड के खिलाफ जीत का सिलसिला जारी रखा और मंगलवार को चैपल-हेडली ट्रॉफी के दूसरे वनडे मैच में उसको 116 रन से हरा दिया. इस जीत में ओपनर डेविड वॉर्नर का अहम योगदान रहा. वॉर्नर ने इसके साथ ही एक रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लिया. अब वह वनडे में एक साल में ऑस्ट्रेलिया की तरफ से सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले बल्लेबाज बन गए हैं और उन्होंने टीम के पूर्व कप्तान रिकी पॉन्टिंग और पूर्व सलामी बल्लेबाज मैथ्यू हेडन के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है.

डेविड वॉर्नर ने न्यूजीलैंड के खिलाफ मनुका ओवल मैदान में 115 गेंदों में 119 रनों की पारी खेली, जिसमें 14 चौके और एक छक्का लगाया. वॉर्नर के बल्ले से इस साल 22 मैचों में छह शतक निकले हैं. वॉर्नर वनडे क्रिकेट में एक साल में सबसे अधिक शतक लगाने वाले बल्लेबाजों में भारत के सचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली के बाद तीसरे नंबर पर आ गए हैं.

जहां ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों के बीच वह नंबर वन पर आ गए हैं, वहीं वर्ल्ड लेवल पर देखें, तो वनडे में एक साल में सबसे ज्यादा शतक लगाने के मामले में महान सचिन तेंदुलकर नंबर वन पर हैं, तो टीम इंडिया के सफलतम कप्तानों में से एक बाएं हाथ के बल्लेबाज सौरव गांगुली सूची में दूसरे नंबर पर हैं.

सचिन तेंदुलकर ने यह उपलब्धि 1998 में हासिल की थी. हालांकि उन्होंने डेविड वॉर्नर से ज्यादा मैच खेले थे. सचिन ने 34 वनडे में नौ शतक लगाए थे, जबकि  सौरव गांगुली ने साल 2000 में 32 मैचों में सात शतक लगाए थे. साल में छह शतक लगाने वाले बल्लेबाजों की सूची में दक्षिण अफ्रीका के गैरी कर्स्टन और सचिन (1996) तथा भारत के ही राहुल द्रविड़ (1999) के नाम हैं.

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व और सफलतम कप्तानों में से एक रिकी पॉन्टिंग और ओपनर मैथ्यू हेडन ने साल में पांच शतक लगाए थे. रिकी पॉन्टिंग ने वनडे करियर में 2003 और 2007 में यह कारनामा किया था, जबकि हेडन ने 2007 में पांच शतक जड़े थे.

TNM Editor
By TNM Editor December 6, 2016 14:27
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*